शुक्रवार, 3 अप्रैल 2015

आसमान पे मन सवार क्यूँ



इस कदर दिल बेकरार क्यूँ
तेरे जिक्र का इंतज़ार क्यूँ

तेरी आरजू बस न और कुछ
आसमान पे मन सवार क्यूँ


हंस के ना कहो तोड़ दो ये दिल
कत्ल हो मेरा बारबार क्यूँ

काँटों से भरी तेरी राह क्यूँ
ईश्क हो मेरा तारतार क्यूँ

गर है प्यार जो नेमते खुदा
घर में प्यार के ग़म हज़ार क्यों

तुम हो जानती मेरे मन में क्या
बेरुख़ी अब मेरे यार क्यूँ।
-प्रकाश पाखी

5 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया है.
    इतने उम्दा लिखते हैं सरकार
    तो ये आमद कभी कभार क्यूँ.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया भाई जान।बस सन्नाटा तोडना चाहता था।

      हटाएं
    2. शुक्रिया भाई जान।बस सन्नाटा तोडना चाहता था।

      हटाएं