रविवार, 5 अप्रैल 2015

एक कविता याद पुरानी

जिन गलियों में तुम और मैं
कदम कदम पर साथ चले
उन गलियों की उड़ती धूल
मन में मीलों महक रही है

चौराहे पर कितने घण्टे
बातें करते बिता दिए थे
मूंगफलियों के बिखरे छिलके
कुछ कुछ दानें मेरे भी थे

वो परीक्षा की तैयारी
कितनी रातों साथ जगे थे
चाय बनाना किसकी बारी
चुस्की चुस्की याद मुझे है

होटल की वो आधी चाय
पूरा पूरा दिन ले लेती
ऊंचे सुर के हंसी ठहाके
खुश खुश चेहरे आज कहाँ है

बारातों में घोड़ी आगे
नच नच भंगड़े जो किये थे
इक लड़की जो ताने कसती
खिल खिल हंसती यादों में है

मूवी में जो तीखी सीटी
बजा बजा कर मजे लिए थे
आगे बैठी सुंदर लड़की
अंदर अंदर बसी हुई है

मंदिर चढ़ कर चढ़े चढ़ावे
कर बंटवारा बांटे जो थे
उनको खाते देखे सपने
सच सच कहना आज कहाँ है
-प्रकाश पाखी
(जून 1994 को दोस्तों की याद में लिखी एक पुरानी कविता)

6 टिप्‍पणियां: